50+ के बाद जीवन की किताब | Sunder vichar | समझोता | suvichar

1
324
50-के-बाद-जीवन-की-किताब -Sunder-vichar-समझोता- suvichar
50-के-बाद-जीवन-की-किताब -Sunder-vichar-समझोता- suvichar

50+ के बाद जीवन की किताब | Sunder vichar | समझोता | suvichar

नमस्कार…
 50 से 60 की उम्र वालो मेंरा नमस्कार. स्वीकार कर लो
बेटा समझकर सुन लो मेरा यह विचार
खुब मजे से कटेगा आपका 50 के बाद जीवनकाल
 
बस… थोडा समझोता करना सिख लो.  
अपने बहुओं के साथ समझौता करना सीख  लो …
बेटे – बहुसभी छोटे – बड़ें सभी को अपने मन की करने दो…
आप मत टोको उन्हें…. वो जो भी करते है… उन्हें करने दो.
 
 बोलो कम…! सुनो उनकी खूब…!
कभी उन्हें कुछ  सिखाने की कोशिश मत करो…!
बल्कि अपने खुद के काम खुद ही करना सीख लो.
मै मानता हु… ये इतना आसान नहीं…

50+ के बाद जीवन की किताब | Sunder vichar | समझोता | suvichar

करने दो उन्हें उनके मन की… आप रखो ना रखो दिलचस्पी कोई.
बस… आप अपने दिल पर पत्थर रखकर… देखते रहो…नज़ारे सभी.
मौन रहना सीख लो… अपने आप को जानो…  और अपने आप पहचानो
अपने आप के लिये जीना सीख लो.
 
अपने नाती – पंथी के संग… अपने बहुओं के स्वभाव को देखकर प्यार करो.
आप उन्हें ज्ञान देने की कोशिश कभी भी ना करो.
बस…! अपने आप के लिये जीना सीख लो.
 
अपने दिल के घाव छुपाकर रखना… उन्हें कभी भी बताने की कोशिश मत करना
जो मिला है उसी में खुश रहना सीख लो…! अच्छे मित्रो के साथ अपना समय बिताना 
सीख लो…!
 
थोड़ा है थोड़े में गुज़ारा करना सीख  लो…! अब नही आने वाले आपके पुराने दिन…
यह आप अच्छे से समझ लो…!
 
जीवन साथी आपका है… उसकी आप इज्ज़त करना सीख लो…
वही निभाएगा साथ आखिर तक… ये भी जान लो.
 
प्यार का रिंश्ता ही सच्चा रिश्ता… बाक़ी सब रिश्ते मतलब के है
यह अच्छे से जान लो…!
आप बस… अपने आप को जानो… अपने आप को पहचानो…
 
अपने आप मे ही रहना सींख लो…!
 हो सके तो कुछ किताबे पढ़ना सीख लो…! कुछ लिखने से दिल लगाना सीख लो…!
ख़ाली वक्त के साथी है… ख़ूब प्यार तुम्हें दे जायेंगे…
न कोई शिकवा ना कोई  शिकायतबस… तुम्हें तुम्हारी तरह ही चाहेंगें
उनसे दिल लगाना सीख लो…!

50+ के बाद जीवन की किताब | Sunder vichar | समझोता | suvichar

 
अंत समय आयेगा… कौन किसके पहले जायेगा… यह बात तो किसी को नही है पता
एक दिन अकेले रहने की तैयारी कर लो… जीवन साथी फुर्र से उड़ जायेगा
हाथ तुम्हारे कुछ न आयेगा…!जीवन आपका पुरी तरह सूना हो जायेगा
बाक़ी सब तो मोह माया है… ख़ाली हाथ आए थेअब खाली हाथ जाना है…
ये जान लो…!
 
पचास से साठ के उम्र वालो… आप अपने आप के लिये जीना सीख लो…!
अपने दिल के ज़ख़्मों को… दिल में ही छिपाना सीख लो.
जिदगीं से अपने समझोता करना सीख लो…!
 50 + से उपरवालो को समर्पित…

50+ के बाद जीवन की किताब | Sunder vichar | समझोता | suvichar

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here