Sunder Vichar | BUSY रहो लेकिन BE – EASY भी रहो | Suvichar

0
221
busy-रहो-लेकिन-easy-भी-रहो-पैसा-सुविचार-हिंदी-vb
busy-रहो-लेकिन-easy-भी-रहो-पैसा-सुविचार-हिंदी

Sunder Vichar | BUSY रहो लेकिन BE – EASY भी रहो | Suvichar

एक गिलहरी प्रतिदिन अपने काम पर समय से जाती थी और
अपना कार्य समय पर पूरा करके वापस अपने घर आती थी.

अपना कार्य गिलहरी पूरी मेहनत और ईमानदारी से करती थी.
गिलहरी बहुत कड़ी मेहनत करती थी क्योंकि… उस जंगल के
राजा शेर, जो गिलहरी का मालक था, उसने गिलहरी को जो
कार्य सोपा था वो पूरा होने पर शेर ने गिलहरी को 20 बोरा
अखरोट देने का वादा किया था.

काम करते हुए कभी अगर थक जाती तो आराम करने के लिए
बैठ जाती थी… लेकिन जैसे ही उसे 20 बोरी अखरोट देने का वादा
याद आता तो फिर काम को लग जाती थी…!

गिलहरी जब दूसरे गिलहरीयों को खेलते देखती थी,
तो उसका भी मन करता की मै भी इनके साथ खेलु.
लेकिन उसके आँख के आगे 20 बोर अखरोट आ जाते…!
और गिलहरी फिर अपने काम पे लग जाती थी.

इसी प्रकार समय बीतता गया, गिलहरी अपना काम मन लगाकर
करती रही… और वो समय भी आ गया, जब उसका काम
पूरा हो गया.

काम पूरा होने पर वादे के मुताबिक शेर ने गिलहरी को 20 बोरे
अखरोट देकर काम से मुक्त कर दिया…

Sunder Vichar | BUSY रहो लेकिन BE – EASY भी रहो

अब गिलहरी अखरोट के बोरों पास बैठ कर सोचने लगी की…
जीवनभर काम करते करते मेरे सारे दात घिस गए है…
अब इन्हें कैसे खाऊ….
अब ये अखरोट मेरे किस काम के…!

यह कहानी आज हमारे जीवन की सच्चाई बन गई है…!

इंसान नौकरी, व्यापार करके करते अपना पूरा जीवन पैसा कमाने में
लगा देता है… इस दौरान अपनी अनगिनत इच्छाओं का भी त्याग
कर देता है…!

एक इंसान 60 वर्ष आयु होने पर जब वो सेवा निवृत्त होता है…
तो उसे उसका जो जीवनभर जमा किया हुवा पैसा मिलता है…
या फिर जो भी उसका बैंक बैलेंस होता है… तो उसको उपयोग
करने की क्षमता खो चुका होता है…!

तब तक जमाना बदल चुका होता है…
परिवार का भार बच्चों पर आ जाता है…
और घर बच्चों के ही निर्णय से चलता है…!

अब सोचिए… क्या इन बच्चों को इस बात का अंदाजा भी
होगा की…. ये जीवनभर जमा किया पैसा या ये बैंक बैलेंस
करने के लिये……

हमने अपनी कितनी इच्छायें मारी होंगी…?
हमने कितनी तकलीफें उठाई होंगी…?
हमारे कितनें सपनें अधूरे रहे होंगे…?

जिस पैसे को पाने के लिए सारा जीवन लग जाये
और अंत में हम उसका उपयोग भी ना कर सके…
क्या फायदा ऐसे पैसे का… बैंक बैलेंस का…

Sunder Vichar | BUSY रहो लेकिन BE – EASY भी रहो

मित्रोँ…
आज तक इस पृथ्वी पर
कोई ऐसा अमीर अभी तक पैदा नहीं हुआ…
जो बीते हुए समय को खरीद सके…!

इसिलिये हर एक पल को खुश होकर जियो…
व्यस्त रहो… पर साथ में मस्त भी रहो…
सदा स्वस्थ रहो…!

जीवन में हर रोज भरपूर मौज लो….
अगर नहीं मिले तो खोज लो…! BUSY रहो लेकिन BE – EASY भी रहो…!

धन्यवाद

 

Sunder Vichar | BUSY रहो लेकिन BE – EASY भी रहो | Suvichar

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here